Student of HCST participate in Supra SAE- India

Student of HCST participate in Supra SAE- India
हिन्दुस्तान कॉलेज के ऑटोमोबाइल एवं मैकेनिकलइंजीनियरिंग के छात्रा ें ने बनायी फार्मूला-1 वाहन सुप्रा एस.ए.ई. इंडिया की प्रतियोगिता बुद्ध इंटरन ेषनल सर्किट, ग्रेटर नोयडा में 11 से 16 जून तक चली शारदा ग्रुप के प्रतिष्ठित संस्थान हिन्दुस्तान कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी के ऑटोमोबाइल एवं मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्रों ने सुप्रा एस.ए.ई. इंडिया 2018 में भाग लिया। प्रतियोगिता 11 से 16 जून, 2018 तक चली। इस प्रतियोगिता में देषभर के बड़े संस्थान जैसे आई.आई.टी., एन.आई.टी. एवं प्रतिष्ठित कॉलेज और षिक्षा संस्थान के छात्र प्रतिभाग करते हैं। इस प्रतियोगिता में कुल 126 टीमों के 3 हजार 500 छात्रों ने भाग लिया जिसमें से सिर्फ 27 टीमां ने ही टैक्नीकल इनस्पेक्षन राउण्ड पास किया। जिसमें हिन्दुस्तान कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी के भी छात्र शामिल थे। ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग के प्रवक्ता एवं मार्गदर्षक श्री सुमित पांचाल ने बताया कि एस.ए.ई. इंडिया हर वर्ष राष्टं स्तर पर सुप्रा नाम से प्रतियोगिता का आयोजन करती है जो कि मारूती सुजुकी एवं अन्य एम.एन.सी. कंपनियों के द्वारा प्रायोजित होती है और उन्होंने बताया कि विभाग के छात्रों की टीम ‘‘प्लास्टर रेसिंग’’ नामक इस छात्र समूह ने बुद्ध इंटरनेषनल सर्किट, ग्रेटर नोयडा में आयोजित सुप्रा एस.ए.ई. इण्डिया के अंतिम राउण्ड में अपना लोहा मनवाया और सफलता पूर्वक इसे पास किया। मारूती सुजूकी व एस.ए.ई. इण्डिया द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता में पूरे देषभर से आये 126 से अधिक जाने-माने इंजीनियरिंग कॉलेजों ने भाग लिया। टीम के कप्तान यष अग्रवाल ने बताया कि इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए एक वर्ष पूर्व से ही तैयारी शुरू कर दी थी। छात्रों के द्वारा तैयार किया गया वाहन एक सीटर वाहन है, जिसकी अधिकतम गति 150 किलोमीटर प्रति घंटा है। वाहन की लंबाई 2500 एम.एम. और चौड़ाई 1300 एम.एम. है। यह एक फार्मूला स्टाइल वाहन है। वाहन का हृदय भाग यानि कि उसका ईंजन के.टी. एम. ड्यूक 390 बाईक का है जो कि आस्टेंलिया में निर्मित किया गया। इस वाहन का इंजन 43 बी.एच.पी. का है जो कि इस वाहन को अधिक शक्ति प्रदान करता है।