World Mental Health Day Celebration

World Mental Health Day Celebration

शारदा गु्रप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स (SGI) के प्रमुख प्रबंधन संस्थान हिन्दुस्तान इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एण्ड कम्प्यूटर स्टडीज फरह पर मानसिक स्वास्थ्य के बारे में लोगो को जागरूक और शिक्षित बनाने के उद्देश्य से दस अक्टूबर को ‘विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस‘ मनाया गया। हिन्दुस्तान इंस्टिट्यूट के निर्देशक एवं प्रख्यात मनो वैज्ञानिक डा नवीन गुप्ता की राय में जब किसी व्यक्ति की भावनाऐं, विचार अथवा व्यवहार दूसरे लोगो के लिए समस्या बन जाए तो यह उस व्यक्ति के मानसिक बीमारी से ग्रस्त होने के लक्षण हो सकते हैं , लेकिन समुचित जानकारी के अभाव में लोग इस और ध्यान नहीं देते जिससे समस्या ग़ंभीर रूप धारण कर लेती है । मानसिक बीमारी होने का कारण दिमाग में ‘केमिकल इंबैलेंस ‘ होने की बात कहते हुए मनो चिकित्सक डा नवीन गुप्ता ने कहा, ‘जब तक समस्या बड़ी न हो तब तक लोगों का ध्यान मानसिक बीमारियों की ओर नहीं जाता।

इसे संबंधित व्यक्ति की आदत समझकर लोग नजर अंदाज कर देते हैं जबकि कुछ लोग मानसिक बीमारी को पागलपन समझ बैठते हैं । विश्व स्वास्थ्य संगठन के ऑक्टो पर गौर करे तो दुनियाभरमें करीब 45 करोड़ व्यक्ति मानसिक बीमारी या तंत्रिका संबंधी समस्याओ से ग्रस्त हैं । आज मानसिक बीमारियों की पहचान करना मुश्किल नहीं रह गया है क्योकि इस दिशा में विज्ञान ने बहुत प्रगति कर ली है । समय रहते सही मनो चिकित्सक के पास जाने से इस बीमारी का पता लगाया जा सकता है और उसके दुष्प्रभाव सामने आने से पहले ही उसका इलाज किया जा सकता है। आजकल लोग जिन्दगी में तनाव, अकेलापन , चिड़चिड़ापन, अत्यधिक क्रोध आना एवं कई बार आत्महत्या करने की सोचने की परेशानी से जूझ रहे हैं । परन्तु समस्या यह हैं कि वो किसी से परामर्श लेने जाने में झिझकते हैं जिससे समस्या और भी बढ जाती है । इसी समस्या को सुलझाने के लिए डाॅ नवीन गुप्ता ने एक पहल की है और एक ऑनलाइन काउंसिलिंग सर्विस का शुभारंभ किया है । इस आनलाइन काउंसिलिंग सुविधा से लोग कही भी बैठकर बिहेवरल एक्सपर्ट से सम्पर्क कर एक्सपर्ट एडवाइस ले सकते हैं । इस प्रयास से यह अपेक्षा है कि लोग झिझक तोड़े और इसकेा एक अन्य रोग समझकर सही समय पर सही परामर्श प्राप्त कर एक सुखी जीवन व्यतीत करे । अपनी इन सामाजिक समस्याओ और यंगऐज समस्याओ से डील करने के लिए ही उन्होंने ऑनलाइन काउंसिलिंग की वेबसाइट और फेसबुक पेज लाॅच की है । साथ ही संस्थान के समस्त अध्यापको ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किये। सहायक प्रोफेसर राहुल खंडेलवाल एवं विवेक त्रिपाठी ने गोष्टी का संचालन किया।